Unloading Details : Get, Set, Go…

This video tutorial explains how to enter Unloading Details in FreightMan by Extreme Solutions.

अगर आप Video नहीं देखना चाहते, या आपको Video पसंद नहीं आया तो आप आगे पढ़ना जारी रखें।

आप चाहें तो इस Tutorial के PDF Version को Download भी कर शकते हैं।

FreightMan में जिस Trip की Entry आप Loading Details में करते हो, उस Trip से Related बाकी Details, जैसे की वह Vehicle Destination पर कब पहोचा, Unload कब हुआ और Unload Weight कितना था, यह सारी Details आप Unloading Details की Screen में Enter कर सकते हो, इस Tutorial में हम यही सीखने वाले है |

Unloading Details की Entry करने के लिए आप के पास दो Modes Available है, Single Trip और Multiple Trips का, पर क्योंकि यह Tutorial Single Trip के लिए हे, हम Unloading Details की Screen Activate करने के लिए Entries Menu में Unloading Details में Single Trip के ऊपर Click करेंगे, निचे दिया गया Screen आपके सामने Open हो जाएगा |

अगर आप Loading Detail की Entry कैसे करते हे, यह जानते है, तो आपको यह Tutorial काफी आसान लगेगा |

इस Screen में भी आपको जो Option Enter करना Compulsory है, वह bold मिलेंगे और जो Optional है, वह Regular दिखेंगे, जो की आप Blank भी छोड़ सकते है |

इस Screen में सबसे पहले आप जिस Trip की Unloading कर रहे है, उस Trip का L/R No Mention करना है | आपको इस बात का ध्यान रखना है की अगर आपने Loading Details की Entry करते वक़्त L/R Prefix Mention किया था, तो आपको L/R No में L/R Prefix और उसके बाद L/R No, दोनों ही Mention करना है | मतलब की अगर L/R Prefix ‘xyz\’ था और L/R No ‘1’ था, तो आपको L/R No. में ‘xyz\1’ लिखना है |

L/R No Mention करने के बाद Keyboard पर Enter या Tab Key press करते ही, उस Trip के लिए Loading Details में जो भी Details Mention किया था, वो सारे Details Automatic Unloading Details की Screen में Show हो जाएंगे |

Next Option Reporting Date का हे, Reporting Date में जिस Date को Vehicle Destination पर पहोचा, वह Date Mention करना है |

Next Option Unloading Date का हे, जिसमे Vehicle जिस Date को Unload हुआ, वो Date Mention करना है |

Reporting Date और Unloading Date अलग-अलग देने का Reason यह है की, अगर आपका Vehicle Destination पर कुछ दिन पहले पहोचा था और Unload होने में Time लगा, तो इस Trip का Bill बनाते वक़्त Software Automatically आपको Remind करायेगा की इस Trip में Detention है और अगर आप Detention Charge करना चाहते हो, तो Detention Rate Mention करके Detention Claim कर सकते हो |

Next Option Gross, Tare और Net weight का हे, जिसमे आपको Unloading Gross, Tare और Net weight Mention करना है | इस बात पर आप ध्यान दे की Gross, Tare, Net weight और Shortage Calculation से Related Options Container Transportation के Case में Hidden रहेंगे, क्योंकि Container Transportation में Shortage की जरूरत नहीं होती है |

Gross और Tare weight Mention करने पर Software Net weight और Actual Shortage Automatically Calculate कर लेगा और Loading Details की Entry करते वक़्त अगर आपने Allowed Shortage Mention किया था, तो Software Deduction Quantity भी Automatically Calculate कर लेगा |

Next Option Remarks का हे, जिसमे आप इस Trip से जुड़ी कोई भी Information Mention कर सकते हो और चाहो तो Blank भी छोड़ सकते हो |

जिस Trip के लिए हम Unloading Details Mention कर रहे है, अगर उस Trip के लिए Vehicle आपने Market से Hire किया था, तो Software Loading Details में Mention किया गया Freight Rate Automatically Fetch कर लेगा |

अगर आपने Loading Detail की Entry करते वक़्त Freight Rate Mention नहीं किया था या आप उसे Change करना चाहते हे, तो आप उसे Unloading Details की Screen में Change कर सकते है |

Loading Details की Entry करते वक़्त जो Details आपने Allowed Shortage में दी होगी, वह Allowed Shortage में आ जायेगी और जैसे की हमने पहले ही देखा की Software Loading Qty, Unloading Qty और Allowed Shortage से Actual Shortage और Deduction Qty Automatically Calculate कर लेगा |

अगर किसी भी Trip के लिए Vehicle आपने Market से Hire किया था और आप उसके Freight Amount से Shortage Deduct करना चाहते हो, तो जिस Rate से आप Shortage Deduct करना चाहते हो, वह Rate आपको Deduction Rate में Mention करना है, और Software आपको Payable Freight का Calculation भी   दिखा देगा |

अगर आप Loading Details की Entry करते वक़्त Other Charges या Other Deduction की Entry करना भूल गए थे, या फिर आप उसे Modify या Delete करना चाहते है, तो Unloading Details की Scree से भी आप यह दोनों Options आपकी जरूरत के हिसाब से Set कर सकते है | सारे Options Mention करने के बाद Save Button पर Click करते ही, Software आपके द्वारा Mention किये हुए Options को Validate करेगा और अगर कोई गलती नहीं है, तो उसे Save कर देगा ।

आपको यह Tutorial कैसा लगा ? आप कोई भी Question, Feedback या Suggestion, नीचे दीये गए Comments section में दे शकते हैं। Thank you.

Leave a Reply